एसबीआई की आरबीबीजी योजना क्या है?

0
429
what is sbi rbbg scheme?

एसबीआई की आरबीबीजी योजना क्या है?

घर खरीदना वास्तव में मुश्किल होता जा रहा है। लोगों का बिल्डर्स पर विश्वास कम हो रहा है। बिल्डर्स की पहचान प्रोजेक्ट्स अधूरा छोड़ने और डिफॉल्टर की बन गई है। कभी-कभी प्रोजेक्ट को पूरा करने में आने वाली उच्च लागत के कारण बिल्डर इसे अधूरा छोड़ने के लिए मजबूर हो जाता है। इस स्थिति में घर खरीदारों के लिए बहुत मुश्किल होती है, क्योंकि बिल्डर फरार हो जाता है। लेकिन अब घर के खरीदारों को चिंता करने की जरूरत नहीं है, क्योंकि देश का सबसे बड़ा ऋणदाता एसबीआई बैंक इस समस्या का समाधान लेकर आया है। अगर बिल्डर प्रोजेक्ट में देरी करता है, तो एसबीआई होम लोन लेने वालों को भुगतान वापस कर देगा। योजना के तहत एसबीआई होम लोन लेने वाले ग्राहकों को चुनिंदा आवासीय परियोजनाओं के पूरा होने की गारंटी देगा। यदि परियोजना में देरी हुई या अटकी तो घर के लिए किया गया भुगतान ग्राहक को वापस मिल जायगा। योजना का नाम रेजिडेंशियल बिल्डर फाइनेंस विद बायर गारंटी (आरबीबीजी) है। अब घर खरीदार घर को विश्वास के साथ खरीद सकते हैं। योजना से भारत में आवासों की बिक्री बढ़ेगी और यह घर खरीदारों के लिए फायदेमंद साबित होगी। इसलिए इस लेख के माध्यम से इसी से संबंधित जानकारी दी जा रही है।

आरबीबीजी योजना

रेजिडेंशियल बिल्डर फाइनेंस विद बायर गारंटी (आरबीबीजी) योजना भारत में घर खरीदारों की समस्याओं का समाधान साबित हो सकती है। योजना के तहत एसबीआई अपेक्षित समय सीमा के भीतर योजाना पूर्ण नहीं होने पर पूरी मूल राशि वापस कर देगा। आरबीबीजी योजना केवल तब तक वैध होगी, जब तक ग्राहक को ऑक्यूपेंसी सर्टिफिकेट नहीं मिलता अर्थात आवंटन पत्र नहीं मिल जाता। आप अधिकतम 2.5 करोड़ रुपये तक की कीमत वाले घरों के लिए आरबीबीजी योजना का लाभ ले सकते हैं। सभी डेवलपर, जो एसबीआई के मापदंडों को पूरा करते हैं, वे आरबीबीजी योजना के तहत 50-400 करोड़ रुपये तक का ऋण ले सकते हैं। यह योजना रियल एस्टेट के क्षेत्र में गेम चेंजर साबित हो सकती है। यह योजना विशेष रूप से उन लोगों के लिए फायदेमंद हो सकती है, जो लोन लेके घर तो खरीदना चाहते थे, लेकिन अटले और अधूरे प्रोजेक्ट के कारण घर लेने से डरते थे। रेरा और जीएसटी भी यह सुनिश्चित करते हैं कि आपको समय पर घर मिल जाये। आरबीबीजी योजना में रेरा की पंजीकृत परियोजनाएं शामिल होंगी। रेरा की समय-सीमा के बाद प्रोजेक्ट को अटका माना जायेगा। योजना के तहत जब तक ग्राहक को ऑक्यूपेंसी सर्टिफिकेट नहीं मिल जाता, तब तक आपके द्वारा लिए गए होम लोन पर एसबीआई की गारंटी रहेगी। यह योजना बैंक, बिल्डर और घर खरीदार सहित सभी पक्षों के लिए लाभदायक है। एसबीआई का मानना ​​है कि आरबीबीजी योजना रियल एस्टेट क्षेत्र में गेम चेंजर साबित हो सकती है और इससे आवासीय इकाइयों की खरीदारी में वृद्धि होगी और ग्राहकों का भरोसा बढ़ेगा। हालांकि एसबीआई केवल उन डेवलपर्स के लिए जोखिम लेगा, जो समय पर परियोजनाओं को पूरा करने के लिए जाने जाते हैं।

एसबीआई सबसे बेहतर बैंक क्यों है?

एसबीआई ने एक्सटर्नल बेंचमार्क दर को 25 बीपीएस घटाकर 7.8% तक कर दिया है। इससे कई होम लोन लेने वालों को बहुत फायदा होगा। वे अब 8.15% की बजाय 7.9% पर ऋण ले सकेंगे। एसबीआई देश का सबसे बड़ा ऋणदाता बैंक है और भारत के कुल होम लोन बाजार में से 22% पर एसबीआई का कब्जा है।

आरबीबीजी योजना कैसे काम करती है?

मान लीजिए कि आप एक खरीदार हैं और आपने 1 करोड़ रुपये का किसी प्रोजेक्ट में एक अपार्टमेंट बुक किया है। आप पहले ही 50 लाख रुपये का भुगतान कर चुके हैं। क्या होगा अगर यह प्रोजेक्ट बीच में ही अटक जाए? तो योजना के तहत एसबीआई आपको आपके द्वारा भुगतान किए गए 50 लाख रुपये वापस कर देगा। गारंटी अवधि तब तक रहेगी, जब तक ग्राहक को ऑक्यूपेंसी सर्टिफिकेट नहीं मिल जाता। इसलिए यदि आपने किसी प्रोजेक्ट में 2 करोड़ रुपये का एक अपार्टमेंट बुक किया है और पहले ही 1 करोड़ रुपये का भुगतान कर चुके हैं तथा प्रोजेक्ट किसी कारण से पूरा नहीं हो पाता है, तो एसबीआई आपको उन एक करोड़ रुपये का भुगतान करेगा, जो आपने बिल्डर को दिये थे। ऐसा केवल तब तक किया जा सकेगा, जब तक कि बिल्डर आपको ऑक्यूपेंसी सर्टिफिकेट नहीं दे देता। योजना के तहत एसबीआई ने तीन परियोजनाओं के लिए सनटेक रियल्टी के साथ समझौता किया है। यह प्रोजेक्ट एमएमआर (मुंबई महानगर क्षेत्र) में चल रहे हैं। एसबीआई की आरबीबीजी योजना 10 शहरों में शुरू की जाएगी और इसमें किफायती आवास परियोजनाएं शामिल हैं, जिनकी कीमत 2.5 करोड़ रुपये तक है।

आरबीबीजी योजना की मुख्य विशेषताएं

  • यह योजना एसबीआई से होम लोन लेने वालों को परियोजनाओं के पूरा नहीं होने की स्थिति में पैसे लौटाने की गारंटी देती है, इससे ग्राहक को आर्थिक सुरक्षा मिलती है।
  • 2.5 करोड़ रुपये तक के किफायती मकान या अपार्टमेंट लेने पर योजना का लाभ मिलेगा।
  • प्रतिष्ठित बिल्डर्स, जो एसबीआई के मानदंडों को पूरा करते हैं, उन्हें 50-400 करोड़ तक का ऋण मिल सकता है।
  • आप 7 शहरों में एसबीआई द्वारा अनुमोदित परियोजनाओं में घर खरीद सकते हैं। पूरी प्रक्रिया पारदर्शिता रहती है और इससे ग्राहकों का विश्वास बढ़ता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here