पर्सनल लोन पर बेहतर ब्याज दर कैसे प्राप्त करें?

1
560
personal loan interest rates

पर्सनल लोन पर बेहतर ब्याज दर कैसे प्राप्त करें?

व्यक्तिगत ऋण (पर्सनल लोन) पर बैंकों द्वारा आमतौर पर अधिक दर पर ब्याज लिया जाता है। ऐसा इसलिए क्योंकि यह संपार्श्विक मुक्त (collateral free) ऋण होता है। इस तरह का ऋण लेते समय आपको शोध के माध्यम से उस बैंक या किसी अन्य ऋणदाता का चयन करना चाहिए, जो कम-से-कम ब्याज दर पर ऋण प्रदान कर रहा हो। बैंक आमतौर पर उधारकर्ता की साख के आधार पर ऋण देते हैं। इसलिए इस लेख के माध्यम से हम आपको बताने जा रहे हैं कि पर्सनल लोन पर बेहतर ब्याज दर कैसे प्राप्त की जा सकती है।

पर्सनल लोन पर बेहतर ब्याज दर कैसे प्राप्त करें?

यदि आप चाहते हैं कि आपको कम ब्याज दर पर पर्सनल लोन मिले, तो आपको पर्सनल लोन के लिए आवेदन करते समय निम्न बातों का ध्यान रखना चाहिए –

उच्च क्रेडिट स्कोर बनाये रखें

पर्सनल लोन लेते समय क्रेडिट स्कोर बहुत मायने रखता है। बैंक लोन देते समय क्रेडिट स्कोर के माध्यम से ही आपकी साख और पैसों की स्थिरता का निर्धारण करते हैं और इसी के आधार पर आपके ऋण को स्वीकृत करते हैं। यदि आपका क्रेडिट स्कोर अच्छा होता है, तो बैंक इसे ऋण वापसी की गारंटी के रूप में देखते हैं और इससे ऋण स्वीकृत होने की संभावना भी बढ़ जाती है। इसलिए हमेशा अपने क्रेडिट स्कोर को अच्छा बनाये रखें। आइये कुछ तरीकों को जानते हैं, जिनकी मदद से आप अपने क्रेडिट स्कोर को उच्च बनाये रख रखते हैं –

क्रेडिट उपयोग अनुपात 30% से कम रखें यदि आपके पास क्रेडिट कार्ड है, तो इसकी क्रेडिट रिपोर्ट अच्छी होनी चाहिए। नहीं, तो आपका ऋण अस्वीकृत हो सकता है। आपको अपने क्रेडिट उपयोग अनुपात पर ध्यान देना चाहिए और कभी भी अधिकतम क्रेडिट सीमा से अधिक उपयोग नहीं करना चाहिए। आपको हमेशा कोशिश करनी चाहिए कि आप अधिकतम क्रेडिट सीमा का केवल 30% ही उपयोग करें। यह अच्छा क्रेडिट स्कोर बनाये रखने में सहायक होता है।

अपनी क्रेडिट रिपोर्ट की जांच करें – बार-बार अपनी क्रेडिट रिपोर्ट की जांच करने से आपको इसके बारे में सही जानकारी मिलती रहेगी। यदि आपको रिपोर्ट में कोई गलती या अप्रत्याशित परिवर्तन दिखता है, तो आप इन्हें सुधारने के लिए आवश्यक कदम उठा सकते हैं। इससे आपको बेहतर वित्तीय निर्णय लेने में भी मदद मिलती है। आप ऑनलाइन एग्रीगेटर्स और वेबसाइटों के माध्यम से अपने क्रेडिट स्कोर की इंक्वायरी कर सकते हैं।

एक बार में एक से अधिक ऋणों के लिए आवेदन न करें – यदि आप एक बार में एक से अधिक ऋणों के लिए आवेदन करते हैं, तो इससे ऐसा लगता है कि आपकी आय कम है और आपको पैसे की बहुत जरूरत है। इसके साथ ही प्रत्येक ऋण आवेदन के परिणामस्वरूप बैंक आपसे पूछताछ करेगा और प्रत्येक पूछताछ के बाद आपका क्रेडिट स्कोर 5 से 10 अंक तक कम हो जायेगा। इसलिए यदि बैंक आपके ऋण आवेदन को अस्वीकृत कर देते हैं, तो नया आवेदन करने से पहले कुछ महीनों का इंतजार करना बेहतर होता है।

अच्छी रीपेमेंट हिस्ट्री बनाये रखें

यदि आपकी रीपेमेंट हिस्ट्री अच्छी है, अर्थात आप उधार लिये गये पैसे को समय पर भुगतान करते रहे हैं, तो आपका ऋण स्वीकृत होने में आसानी होगी। इसमें आपके पिछले ऋण और क्रेडिट कार्ड की बकाया राशि चुकाने आदि की हिस्ट्री देखी जाती है। यदि आपकी रीपेमेंट हिस्ट्री अच्छी है, तो आपक क्रेडिट स्कोर उच्च होता है। इसलिए आपको अपने क्रेडिट कार्ड के बिलों और ईएमआई का समय पर भुगतान करना चाहिए। इन ऋणों की भुगतान तिथियों को याद रखें और नियत तिथि के पहले ऋण का भुगतान करें। इससे आपके जिम्मेदार कर्जदार होने का अहसास होता है और यह आपको अच्छा क्रेडिट स्कोर बनाये रखने में मदद करता है।

विभिन्न बैंकों की तुलना करें

पर्सनल लोन के लिए आवेदन करने से पहले आपको इसके उद्देश्य और उपयोगिता के बारे में विचार कर लेना चाहिए, क्योंकि इन ऋण में उच्च दर पर ब्याज लिया जाता है, इससे आप पर ऋण का बोझ बढ़ सकता है। इसलिए आवेदन से पहले ऋण की कुल लागत और उपयोगिता पर विचार जरूर करें। ऋण के लिए आवेदन से पहले आपको ऑनलाइन विभिन्न बैंकों की ब्याज दर और पात्रता मानदंड की जानकारी लेने चाहिए। इसके साथ ही ऋण की अवधि, प्रोसेसिंग फीस आदि के बारे में भी तुलना करें। इसके बाद उसी बैंक का चयन करें, जो कम-से-कम ब्याज दर पर ऋण की पेशकश कर रहा हो।

ब्याज की गणना करने की विधि जानें

ज्यादारतर बैंक शुरूआत में कम ब्याज दर की पेशकश करते हैं, लेकिन अंत में ग्राहकों को उच्च ब्याज दर पर भुगतान करना पड़ता है। इसका कारण कुल देय ब्याज की गणना करने की विधि की सही जानकारी नहीं होना है। पर्सनल लोन के लिए आवेदन करते समय आपको इसे ध्यान रखना चाहिए। क्योंकि कम होती ब्याज दर के मामले में ब्याज बचे हुये मूलधन पर लगाया जाता है, जबकि फ्लैट ब्याज दर में ब्याज समग्र राशि पर लगाया जाता है। इसलिए यदि आप फ्लैट रेट पर पर्सनल लोन लेते हैं, तो यह आपको कम होती ब्याज दर की तुलना में महंगा पड़ेगा।

आय और नौकरी

ब्लू-चिप कंपनियों, प्रतिष्ठित बहुराष्ट्रीय कंपनियों या महारत्न और नवरत्न कंपनियों में काम करने वाले ऋण आवेदकों के ऋण की स्वीकृति की संभावना अधिक होती है। क्योंकि बैंकों को लगता है कि इन कर्जदारों की आय निश्चित है और इस कारण यह ऋण चुकाने में अन्य की तुलना में सक्षम हैं। ऋण देने से पहले बैंकों द्वारा नौकरी की जानकारी के साथ-साथ आवासीय स्थिरता और आय अनुपात आदि की जांच भी की जाती है।

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here