स्टॉक पर मुनाफा कैसे बुक करें?

0
1259
book profit on stocks

स्टॉक पर मुनाफा कैसे बुक करें?

शेयर बाजारों में व्यापारियों और निवेशकों को अक्सर तुरंत प्रॉफिट बुक करने अर्थात जल्द से जल्द अपना लाभ सुरक्षित करने की सलाह दी जाती है। लेकिन इसे लेकर अधिकतर लोगों का कहना होता है कि वो तो दीर्घकालिक निवेशक हैं और अभी प्रॉफिट बुक नहीं करेंगे। हालांकि दीर्घकालिक निवेशक होना महत्वपूर्ण है, लेकिन इससे अधिक महत्वपूर्ण दीर्घकालिक निवेश रणनीति का होना है। आप तुरंत प्रॉफिट बुक करके अपने आप को हानि से बचा सकते हैं, इसलिए इस लेख के माध्यम से स्टॉक पर प्रॉफिट बुक करने की जानकारी दी जा रही है।

प्रॉफिट बुकिंग क्या है?

प्रॉफिट बुकिंग को प्रॉफिट टेकिंग मतलब लाभ लेना भी कहा जाता है। स्टॉक के जरिए बनाए गए मुनाफे को भुनाने के लिए होल्डिंग को लिक्विड करना प्रॉफिट बुकिंग कहलाता है। यदि आप शेयर बाजार में किए गए निवेश से लाभ लेना चाहते हैं, तो यह महत्वपूर्ण होता है।

परिवर्तनशील शेयर बाजार

नियमित अंतराल पर शेयर बाजारों में मुनाफा बुक करने का एक मुख्य कारण यह है कि शेयर बाजार अस्थिर होते हैं। आप मुनाफा बुक करने के लिए अस्थिरता का लाभ ले सकते हैं। इसे आप एक उदाहरण के माध्यम से समझ सकते हैं कि कैसे शेयर बाजारों की अस्थिरता आपको मुनाफा कमाने में मदद करती है। माना आपने कोटक महिंद्रा बैंक लिमिटेड के 10 शेयरों को 1,570 रुपये की औसत कीमत पर 21 नवंबर 2019 को खरीदा है। आपने इन शेयरों को 18 दिसंबर को 1,720 रुपये की औसत कीमत पर बेचा, जिससे आपको 150 रुपये प्रति शेयर का लाभ हुआ। आपने 8 जनवरी 2020 को 1,650 रुपये प्रति शेयर की दर से पुन: प्रवेश किया। यदि आप अपने आप को एक दीर्घकालिक निवेशक मानते हैं और मुनाफे की बुकिंग नहीं करते हैं, तो आप 1,720 – 1,650 = 70 रुपये प्रति शेयर लाभ कमाने का अवसर खो देंगे। इस स्थिति में आपको यह विश्वास होना चाहिए कि कोटक महिंद्रा बैंक 1,720 के स्तर को फिर से हासिल करेगा और इससे भी आगे जायेगा। यह दीर्घकालिक रणनीति होगी।

शेयर बाजार में जोश पर काबू रखें

शेयर बाजारों में पैसा गंवाने का मुख्य कारण आपका जोश और भावनाएं होती हैं। समय के साथ आप शेयरों के जरिए अधिक से अधिक लाभ कमाने की सोचने लगते हैं और उन्हें बेचने से बचते हैं। यह बहुत बड़ी गलती हो सकती है। शेयर बजार में अपनी भावनाओं को काबू में रखें। यदि आपको लगता है कि यह सही समय है, तो शेयरों को बेचने के लिए तैयार रहें और मुनाफा कमायें।

स्टॉक्स में प्रॉफिट बुकिंग कब की जाती है?

  • माना खबर आ रही है कि एक कंपनी ने एक नया उत्पाद लॉन्च किया है, जो सुपरहिट है या इस कंपनी ने बड़े पैमाने पर अनुबंध किया है, इसलिए लोग इस कंपनी के स्टॉक को खरीदना शुरू कर देते हैं। अत्यधिक खरीदारों और खरीदी के कारण स्टॉक की कीमतें बढ़ाती हैं। इस स्थिति में बहुत सारे लोग अपने निर्धारित लक्ष्यों तक आसानी से पहुंच जाते हैं और वे शेयर बेच देते हैं तथा मुनाफा बुक करते हैं। यही स्थिति स्टॉक की कीमतों में अस्थायी मंदी का कारण बनती है।
  • कंपनी के समान ही किसी सेक्टर के मामले में प्रॉफिट बुकिंग हो सकती है। यह तब होता है, जब कंपनी की तरह ही किसी सेक्टर के लिए एक अच्छी खबर आये।
  • आर्थिक डेटा का बाहर आना प्रॉफिट बुकिंग का एक सामान्य कारण होता है। जैसे ही समाचार आता है कि जीडीपी में कमी हो सकती है, तो वैसे ही आप शेयर बेचने के लिए तैयार हो जाते हैं। आपको शेयर से लाभ तभी होता है, जब आप मुनाफा लेने के लिए प्रॉफिट बुकिंग करते हैं।

इस प्रकार बाजार के उतार-चढ़ाव के आधार पर प्रॉफिट बुकिंग की जाती है। आप अपनी जोखिम क्षमता को ध्यान में रखकर भी प्रॉफिट बुकिंग कर सकते हैं, जिससे आपको नुकसान न होगा।

स्टॉक्स में मुनाफा कैसे बुक करें?

मान लीजिए कि आपके पास एबीसी कंपनी के 200 शेयर हैं, जिन्हें आपने 100 रुपये की कीमत पर खरीदा है। शेयरों की मौजूदा बाजार कीमत 140 रुपये है। आप शेयरों को 140 रुपये में बेचने का फैसला करते हैं। 140 रुपये में शेयर बेचने के बाद आपको वास्तव में 40 रुपये का लाभ होगा। यही मुनाफे की बुकिंग है।

यदि आपके द्वारा होल्ड किए गए शेयरों की कीमतें घट जायें, तो क्या होगा?

मान लीजिए कि आप कंपनी एबीसी के 200 शेयर 100 रुपये की कीमत पर बेचते हैं। फिर कुछ दिनों के बाद शेयर की कीमत 60 रुपये हो जाती है। यदि आप इन्हीं शेयरों को 60 रुपये में खरीदते हैं, तो आप 40 रुपये का लाभ कमाते हैं।

अनुशासित निवेशक के लिए प्रॉफिट बुकिंग

मान लीजिए कि आपने पिछले साल 1,500 रुपये में एचडीएफसी एएमसी के शेयर खरीदे थे। आपने एचडीएफसी एएमसी शेयरों पर 1,800 रुपये का लक्ष्य रखा है। ऐसे में जैसे ही यह शेयर इस लक्ष्य को छूते हैं, वैसे ही आपको इन्हें जरूर बेचना चाहिए। इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि एचडीएफसी एएमसी के शेयर 2,000 रुपये या इससे अधिक जा सकते हैं। क्योंकि जैसे ही आप निवेश और हानि को कम करने के लिए अनुशासन बनाए रखते हैं, वैसे ही आपको प्रॉफिट बुकिंग में भी अनुशासन बनाए रखना चाहिए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here