कैशलेश हेल्थ इंश्योरेंस का बढ़ता बाजार

0
253
cashless health insurance

कैशलेश हेल्थ इंश्योरेंस का बढ़ता बाजार

बाजार में उपलब्ध विभिन्न हेल्थ इंश्योरेंस योजनाएं अपने-अपने हिसाब से सुविधाएं प्रदान करती हैं। किसी भी योजना में पंजीयन कराने से पहले हमें उसके सभी पहलुओं को अच्छी तरह पढ़ एवं समझ लेना चाहिए, जिससे भविष्य में कोई दिक्कत न हो, क्योंकि अधिकतर योजनाओं में कुछ शर्तें होती हैं, जो अलग-अलग परिस्थिति में ग्राहकों को पता चलती हैं और जब तक बहुत देर हो चुकी होती है। सभी शर्तों को जानने के बाद ही हम योजना का सही लाभ उठा सकते हैं। आजकल की कई हेथ्य इंश्योरेंस पॉलिसीज कैशलेस की सुविधा भी प्रदान करती हैं। इस लेख के माध्यम से हम कैशलेस हेल्थ इंश्योरेंस के बारे में बताने जा रहे हैं –

दो तरह की क्लेम सुविधा देती हैं इंश्योरेंस कंपनियां

स्वास्थ्य के प्रति बढ़ती जागरुकता के कारण हेल्थ इंश्योरेंस कंपनियां भी नए-नए प्लान और सुविधाएं लेकर आ रही हैं, जिससे ग्राहकों को अपनी और आकर्षित किया जाए। इसी सिलसिले में बीमा कंपनियां ग्राहक के स्वास्थ्य बीमा क्लेम को दो तरीके से देती हैं – रिइंबर्समेंट और कैशलेस।

रिइंबर्समेंट – इस तरह के क्लेम में बीमित व्यक्ति बीमा कंपनी के नेटवर्क या नेटवर्क के बाहर के किसी भी अस्पताल से अपना इलाज करा सकता है। इसमें व्यक्ति को इलाज का पूरा पैसा पहले खुद देना होता है इसके बाद बिल लगाकर क्लेम करने पर कंपनी इलाज और अस्पताल का सारा खर्च रिइंबर्स कर देती है अर्थात बीमित व्यक्ति के अकाउंट में जमा कर देती है।

कैशलेस – कैशलेस क्लेम में शुरुआत से ही इलाज का सारा खर्च बीमा कंपनी देती है। ग्राहक को अस्पताल में पैसे नहीं देने होते हैं। लेकिन इसके लिए आपको बीमा कंपनी के नेटवर्क के किसी अस्पताल में अपना इलाज कराना होता है।

इस तरह मिलता है कैशलेस क्लेम – आप जिस भी अस्पताल में भर्ती हों वहां उसकी इंश्योरेंस हेल्पडेस्क पर जाकर बात करनी होती है। मौजूद कर्मचारी आपका बीमा आईडी कार्ड देखता है और बीमा कंपनी के पास आपका प्री-अथॉराइजेशन फॉर्म जमा कर देता है। इसके बाद बीमा कंपनी आपके डॉक्यूमेंट्स की जांच करती है और अपनी स्कीम के अनुसार क्लेम देना शुरु कर देती है।

रिइंबर्समेंट क्लेम में रखें साबधानी – कोशिश करें की जल्द से जल्द क्लेम कर दें। कभी भी क्लेम करने के लिए एक महीने से ज्यादा का समय न लगाएं। हमेशा अथॉराइजेशन फॉर्म पूरी सावधानी के साथ सही-सही भरें। अस्पताल के सभी बिल, रिपोर्ट बिल आदि संभाल कर रखें और साथ ही इलाज के दौरान हुए अन्य खर्चों के बिल क्लेम में अवश्य लगाएं। आपके पास जितने ज्यादा और सही-सही डॉक्यूमेंट्स होंगे उतने जल्दी ही क्लेम रिइंबर्स होगा।

कैशलेस हेल्थ इंश्योरेंस के लाभ

कैशलेस हेल्थ पॉलिसियों में मिलने वाले लाभों के कारण आज यह ग्राहकों की पहली पसंद बनती जा रही हैं। इस तरह की पॉलिसीज से होने वाले लाभ निम्न है –  

आर्थिक बोझ को करती हैं कम – कैशलेस स्वास्थ्य बीमा योजनाएं आपातकालीन स्थितियों में बहुत उपयोगी होती हैं, क्योंकि पैसे की व्यवस्था करने से ज्यादा जरुरी बीमार व्यक्ति को अस्पताल ले जाना होता है। यदि आपके पास इस तरह की पॉलिसीज हैं, तो आप बिना पैसा की चिंता के मरीज को सीधे अस्पताल ले जा सकते हैं और पूरा ध्यान मरीज के इलाज पर लगा सकते हैं।

यात्रा के दौरान मिलती है मदद – यदि यात्रा के दौरान किसी अन्य शहर में आपके साथ कोई आकस्मिक घटना हो जाती है, तो ऐसे समय में आपकी मदद के लिए आपके पास कोई नहीं होता है और हर कोई बहुत सारा केश पैसा लेकर भी नहीं चलता, ऐसी स्थिति में यह योजना आपकी मदद करती है। आप अनजान शहर में किसी भी अच्छे अस्पताल में जाकर अपना इलाज करा सकते हैं और कैशलेस सुविधा का लाभ ले सकते हैं।

तनाव मुक्त – कैशलेस हेल्थ इंश्योरेंस का बड़ा लाभ यह है कि आप तनाव मुक्त रहते हैं और इससे आपके मन को शांति मिलती है। क्योंकि आप बिना पैसे की चिंता किए अच्छे अस्पताल में इलाज करा सकते हैं और खुद पर अधिक ध्यान दे सकते हैं।

मिलता है व्यापक कवर – अधिकांश कैशलेस बीमा योजनाएं अस्पताल के पहले और बाद के खर्चों, एम्बुलेंस खर्च, घर पर किए गए इलाज और देखभाल के लिए कवर प्रदान करती हैं। कुछ बीमा योजनाएं नियमित समय के बाद चिकित्सा जांच की सुविधा प्रदान करती हैं। हालाँकि यह सुविधाएं कंपनियों के हिसाब से बदलती रहती हैं। आप अपनी सुविधा और आवश्यकता के अनुसार इनका चयन कर सकते हैं।

टैक्स लाभ – किसी भी पॉलिसी के प्रीमियम के लिए किये गये भुगतान पर आयकर अधिनियम 1961 की धारा 80D के तहत टैक्स लाभ मिलता है, जो अधिकतम 10 हजार रुपये तक तथा वरिष्ठ नागरिकों के लिए 15 हजार रुपये तक हो सकता है।

इन लाभों के आधार पर कहा जा सकता है कि केशलैस हेल्थ इंश्योरेंस एक बेहतर विकल्प है। इससे पैसे की झंझट और बाद में रिइंबर्समेंट क्लेम के दिक्कतों से छुटकारा मिल सकता है। लेकिन हमें एक बात जरुर ध्यान रखाना चाहिए की यह सुविधा सिर्फ नेटवर्क अस्पतालों में ही उपलब्ध होती है। इसलिए बहुच सोच समझ कर अपनी पॉलिसी का चयन करें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here